आत्मज्ञान - एक अविरल ज्ञानस्त्रोत

HINDIPOEMSDR. NIKITA MUNDHARA

11/6/20231 min read

आत्मज्ञान - एक अविरल ज्ञानस्त्रोत

अंजान डगर में, खुशियों का भँवर था|

दर्पण पर कोई, धुंधला सा आवरण था|

मन और मस्तिष्क का, कैसा अंतर्द्वंद था|

दोनों ओर आवेश में जलता, और गरजता, सागर था|

इस ज्वाला के सागर को, ठंडे बर्फ की चाहत थी|

अज्ञानता के दलदल को, ज्ञान के डोर की राहत थी|

उबलते हुए लावा से निकली, मासूम सी वह कली थी|

सफेद चोले में लिपटी, वह कोमल सी काया थी|

उत्तर आई रणभूमि में वह, शस्त्रों से सुसज्जित होकर|

ज्ञान का तलवार, प्रेम की ढाल, और विश्वास का आभूषण उड़कर|

सौम्यता से भरी वह कली, एक विशाल फूल में बदलने लगी|

ज्वालामुखी के लपटों को, अपने अमृत से शांत करने लगी|

प्रेम का मल्हमलिए, वह ज्ञान से आहत करने लगी|

दर्पण के धुंधले आवरण को, चीरकर गिराने लगी|

जीत का ध्वज लहराते हुए, वह प्रीति की वर्षा करने लगी|

मन कीबलखाती नदी को, वात्सल्यके सागर से मिलाने लगी|

जान के अथाह घरोंदे में, संग्राम को शरण मिलना ही था|

सत्य के प्रकाश में, अंधकार का शमन होना ही था|

करुणा की अविरल धारा में, ज्वाला को बह जानाही था|

प्रेम के गहन समुद्र में, तिलिस्म का मोती मिलना ही था||

- निकिता मुँधड़ा